बिछुड़न के बाद

बिछुड़न के बाद

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

ख़त से तुम्हारें,
एक कहानी याद आती है,
मुड़ते-जुड़ते,
तुम्हारें क़दमों की रवानी याद आती है,
दिन जो जुड़-जुड़ के कई बरस हो चले है अब,
लिखता हूँ तुम्हें तो जवानी याद आती है !!

पहला प्रेम तुम्हारा,
वो किताबें तुम्हारी,
डायरी पर लिखी,
दो बातें तुम्हारी !!

अच्छा लगता था तुम्हें,
जो हर शाम पढ़ना,
हाँ !
वो ही मैं भी अब लिखने लगा था,
खुशबू बन के तेरी गली का,
गली दर गली,
अब दिखने लगा था !!

हरकते अपनी कुछ तुम बदली नहीं थी,
किताबें कहती थी तुम पगली नहीं थी !!

बेईमानी मे अब वो समर्पण कहाँ है,
जीवंत करता अल्हड़ आलिंग्न कहां है !!

शब्दावली में गर खो भी गया मैं,
पर मेरा ऐसा अंत तो नहीं है,
लिख रहा हूँ पन्नो पर बिछुड़न ,
पर बिछुड़न की बेला अनंत तो नहीं है !!

अगली दफ़ा मुझे तुम अधूरा ही पढ़ना,
पढ़ कर आदतन पन्ने मोड़ देना,
अधूरे छंद के कुछ टूकड़े मिले तो,
उन्हे ऊठाकर तुम जिल्द से जोड़ देना !!

सोचता हूँ, उम्र गुज़रे,
तुम मुझे क्या ही कहोगी,
स्मृति धार में क्या ही बहोगी !!

इत्तेफाकन जिक्र हो भी गया तो,
तुम मुझे बागी ही कहना,
दर्पण के कोने में,
एकांत खड़ी हो,
तुम मुझे साथी ही कहना !!

अपने हक़ की कह चुका हूँ,
प्रेम आघात सह चुका हूँ,
मौन विस्मय से तुम भी,
जीवन शीर्षक देख रही हो,
तरूणाई नयनो में लेकर,
आंचल से मन झेंप रही हो !!

मन में पीड़ा धार ना छूटे,
सो अब अंत किए देता हूँ,
अनुराग जो तुम्हे, सता रहा है,
उसे अंत दिए देता हूँ !!
©सदानन्द कुमार (समस्तीपुर बिहार)

Bichudan Ke Baad

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Khat Se Tumhare,
Ek Kahani Yaad Aati Hai,
Mudte-judte,
Tumhare Kadmo Ki Rawaani Yaad Aati Hai,
Din Jo Jud-jud Ke Kai Baras Ho Chale Hai Ab,
Likhta Hu Tumhe Toh Jawaani Yaad Aati Hai !!

Phla Prem Tumhara,
Wo Kitaabein Tumhari,
Diary Par Likhi,
Do Baatein Tumhari !!

Accha Lagta Tha Tumhe,
Jo Har Shaam Padhna,
Haan !
Wo Hi Main Ab Likhne Lga Tha,
Khushboo Ban Ke Teri Gali Ka,
Gali Dar Gali,
Ab Dikhne Lga Tha !!

Harkate Apni Kuch Tum Badli Nahi Thi,
Kitaabe Kehti Thi Tum Pagli Nahi Thi !!

Baimaani Mein Ab Wo Samparan Kahan Hai,
Jivant Karta Alhad Aalingan Kahan Hai !!

Shabdawali Mein Gar Kho Bhi Gaya Main,
Par Mera Aisa Ant Toh Nahi Hai,
Likh Rha Hu Panno Par Bichudan,
Par Bichudan Ki Bela Anant To Nahi Hai !!

Agli Dfa Mujhe Tum Adhoora Hi Padhna,
Padh Kar Aadatan Panne Mod Dena,
Adhoore Chhnd Ke Kuch Tukde Mile To,
Unhe Uthakar Tum Jild Se Jod Dena !!

Sochta Hu, Umr Guzre,
Tum Mujhe Kya Hi Kahogi,
Smriti Dhaar Mein Kya Hi Bahogi !!

Ittefakan Zikr Ho Bhi Gaya Toh,
Tum Mujhe Baagi Hi Kehna,
Darpan Ke Kone Mein,
Ekaant Khadi Ho,
Tum Mujhe Saathi Hi Kehna !!

Apne Haq Ki Keh Chuka Hu,
Prem Aaghaat Seh Chuka Hu,
Maun Vismey Se Tum Bhi,
Jeevan Shirshak Dekh Rahi Ho,
Tarunai Nayano Mein Lekar,
Aanchal Se Man Jhep Rahi Ho !!

Man Mein Peeda Dhaar Na Chhoote,
So Ab Ant Kiye Deta Hu,
Anurag Jo Tumhe, Sta Raha Hai,
Usey Ant Kiye Deta Hu !!
©Sadanand Kumar (Samastipur Bihar)

SADANAND KUMAR
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account