यादों की पुरानी अलमारी खुल गई

यादों की पुरानी अलमारी खुल गई

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

आज यादों की पुरानी अलमारी खुल गई,
कुछ लम्हें आँखों के प्रत्यक्ष बहने लगे,
कुछ लम्हों में हर्ष, तो कुछ में विषाद थे,
कुछ यादें होठों पर मुस्कुराहट लाई,
कुछ हमारी आंखों को नम कर गई,
आज यादों की पुरानी अलमारी खुल गई।

धूल से लिपटी एक पोटली मिली,
अनगिनत फूलों की महक से भरी,
एक – एक कर गाँठें खोलता गया मैं,
तेरी यादों, बातों और महक से मिलता गया मैं,
वो तुम्हरा रूठना,और फिर हमें ही मनाना,
मेरी छोटी सी छोटी नादानियों पर,
वो तुम्हारा जमकर फटकार लगाना,
सब लम्हा नज़रों के सामने पल में बह सा गया,
आज यादों की पुरानी अलमारी खुल गई

कुछ पुरानी तस्वीरें किताबों के बीच निकल आई,
कुछ हँसते-गाते चेहरों की छवि उन में दिख आई,
गौर से देखा तो कुछ दोस्त पुराने उन में दिखें,
अब कुछ शहर के तो कुछ सपनों के गुलाम हो गए,
वो पानीपूरी, खमन, दाबेली क्या खूब थी खाने की मस्ती,
क्रिकेट का मैदान, और पहले बलेबाजी के झगड़े,
ये सारी बाते होठों पे मुस्कुराहट ले आई,
आज यादों की पुरानी अलमारी खुल गई !!

मोम के मानिंद जैसे उम्र पिघल-पिघल जाती हैं,
यादें आइने पर पड़ी धूल-सी धुंधली हो जाती हैं,
यादें, जिंदगी के कुछ किस्से, कुछ कहानी हो गई,
कहें भी तो कैसे ये कहानी तो सदियों पुरानी हो गई,
आज यादों की पुरानी अलमारी खुल गई !!
©अमन झा

Yaado'n Ki Puraani Almaari Khul Gayi

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Aaj Yaado’n Ki Puraani Almaari Khul Gayi,
Kuch Lamhe Aankho’n Ke Pratyaksh Behne Lage,
Kuch Lamho’n Mein Harsh, To Kuch Mein Vishaad The,
Kuch Yaadein Hontho’n Par Muskurahat Laayi,
Kuch Hamari Aankho’n Ko Nam Kar Gayi,
Aaj Yaado’n Ki Puraani Almaari Khul Gayi !!

Dhool Se Lipti Ek Potli Mili,
Anginat Phoolo’n Ki Mehek Se Bhari,
Ek-ek Kar Gaanthein Kholta Gya Main,
Teri Yaado’n, Baato’n Aur Mehek Se Milta Gaya Main,
Wo Tumhara Roothna, Aur Phir Hame Hi Manana,
Meri Choti Si Choti Nadaaniyo Par,
Wo Tumhara Jamkar Fatkaar Lagaana,
Sab Lamha Nazro Ke Saamne Pal Mein Beh Sa Gaya,
Aaj Yaado’n Ki Puraani Almaari Khul Gayi !!

Kuch Puraani Tasveere Kitaabo’n Ke Beech Nikal Aayi,
Kuch Hanste-gaate Chehro Ki Chavi Un Mein Dikh Aayi,
Gor Se Dekha Toh Kuch Dost Puraane Un Mein Dikhein,
Ab Kuch Sheher Ke Toh Kuch Sapno Ke Ghulaam Ho Gaye,
Wo Paanipoori, Khaman, Dabeli Kya Khoob Thi Khaane Ki Masti,
Cricket Ka Maidan, Aur Pehle Ballebaaji Ke Jhagde,
Ye Saari Baatein Hontho’n Pe Muskurahat Le Aayi,
Aaj Yaado’n Ki Puraani Almaari Khul Gayi !!

Mom Ke Maanid Jaise Umr Pighal-pighal Jaati Hai,
Yaadein Aayine Par Padi Dhool-si Dhundli Ho Jaati Hai,
Yaadein, Zindgi Ke Kuch Kisse, Kuch Kahani Si Ho Gayi,
Kahein Bhi Toh Kaise Ye Kahani Toh Sadiyon Puraani Ho Gayi,
Aaj Yaado’n Ki Puraani Almaari Khul Gayi !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account