एक खत तुम्हारे नाम ‘इरफ़ान’

Ek Khat Tumhare Naam Irrfan - Hindi Shayari Kavita Rip Irrfan

www.PoemsBucket.com

कभी लगा ही नहीं था
तुम्हारे जाने का इतना दुख होगा,
शायद इसलिए कि कभी महसूस ही नहीं हुआ
कि तुम इतनी जल्दी विदा ले जाओगे !
हालांकि साल, दो साल से एक डर ज़रूर था,
जो आज एक रोज़ भयावह सच में तब्दील हो गया !

कभी मिला थोड़ी था तुमसे,
ना ही मेरे कोई करीबी थे तुम,
मगर फिर भी तुम्हारी रुख़सती किसी अपने की सी लगी,
बीमारी ही तो थी, थोड़ी दुर्लभ ही सही,
तुम भला कौनसे कम अनूठे थे,
लगा था मात दे दोगे मौत को !
आखिर पान सिंह को बीहड़ दहलाते हुए जो देखा था हमने
अभी थे तो यहीं, साथ हमारे, कुछ पल पहले,
मकबूल की तरह इश्क़ और वफादारी के बीच की जंग लड़ते हुए
कभी राणा से संजीदा, इतना कि पीकू भी मुस्करा दे,
कभी बिल्लू से खुद्दार,
कभी पाई से जानदार !!

एक बात जाननी थी,
क्या आज भी साजन लंचबॉक्स में चिट्ठियां भेजता है?
आज का डब्बा तुम तक पहुंचा था क्या?
बताओगे नहीं, कि क्या लिखा इला ने आज की चिठ्ठी में?
याद है वो Namesake का अशोक गांगुली?
कैसे नए देश, नई ज़मीं पर,
ज़िंदगी की जद्दोजहद भरी जंग लड़ी थी उसने !

अरे, मैं भी कैसी अजीब सी बातें कर रहा हूँ,
भूल भी कैसे सकते हो तुम इन्हें,
थे तो बस ये कुछ किरदार मा‌त्र ही,
इनमें असली ज़िंदगी तो तुमने ही फूँकी थी,
हाड़ मांस के इन पुतलों में,
आत्मा तो तुमने ही भरी थी !
ख़ैर, तुम तो चले गए,
लेकिन ये किरदार कहाँ जाएंगे?
रहेंगे यहीं, साथ हमारे,
हमारे घरों में, इन्हीं गलियों में,
जाने भी कैसे दें इन्हें साथ तुम्हारे,
आखिर हमारा भी तो इन पर कुछ हक है !

और फिर, मौत से भी ऐसा क्या डरना,
आखिर तुम रुहदार जो ठहरे,
फिर उठ खड़े हो जाओगे !
लेकिन अब जा ही चुके हो, तो ये सोचता हूँ
तुम मोहब्बत हो, इसलिए जाने दिया,
पर अगर ज़िद भी होते, तब भी तो छोड़ना ही पड़ता
याद है, तुमने ही कहा था
“मैं जा रहा हूं, वापस आने के लिए”
इंतज़ार रहेगा तुम्हारा !!
©कार्तिकेय

Ek Khat Tumhare Naam Irrfan - Hindi Shayari Kavita Rip Irrfan

www.PoemsBucket.com

Kabhi Laga Hi Nahin Tha,
Tumhare Jaane Ka Itna Dukh Hoga,
Shayad Isliye Ki Kabhi Mehsoos Hi Nahi Hua
Ki Tum Itni Jaldi Wida Le Jaogey !
Haalanki Saal, Do Saal Se Ek Dar Jaroor Tha,
Jo Aaj Ek Roz Bhyaveh Sach Mein Tabdeel Ho Gaya !!

Kabhi Mila Thodi Tha Tumse,
Na Hi Mere Koi Karibi The Tum,
Magar Phir Bhi Tumhari Rukhsati Kisi Apne Ki Si Lagi,
Beemari Hi Toh Thi, Thodi Durlabh Hi Sahi,
Tum Bhla Kaun Se Kam Anoothe The,
Laga Tha Maat De Dogey Maut Ko !
Aakhir Paan Singh Ko Beehad Dehlaate Huye Dekha Tha Hamne,
Abhi The To Yahin, Saath Hamare, Kuch Pal Pehle,
Maqbool Ki Tarah Ishq Aur Wafadaari Ke Beech Ki Jung Ladhte Huye,
Kabhi Rana Se Sanjeeda, Itna Ki Peeku Bhi Muskura De,
Kabhi Billu Se Khuddaar,
Kabhi Pai Se Jaandaar !!

Ek Baat Jaanni Thi,
Kya Aaj Bhi Saajan Lunch Box Mein Chhithiya Bhejta Tha?
Aaj Ka Dabba Tum Tak Pahucha Tha Kya ?
Bataogey Nahi, Ki Kya Likha Ila Ne Aaj Ki Chhitthi Mein ?
Yaad Hai Wo Namesake Ka Ashok Ganguly?
Kaise Naye Desh, Nayi Zamee Par,
Zindgi Ki Jaddhojehed Bhari Jung Ladi Thi Usne !

Arey, Main Bhi Kaisi Ajeeb Si Baatein Kar Rha Hu,
Bhool Bhi Kaise Sakte Ho Tum Inhe,
The Toh Bas Ye Kuch Kirdaar Maatr Hi,
Inme Asli Zindgi Toh Tumne Hi Phoonkhi Thi,
Haad Maans Ke In Putlo Mein,
Aatma To Tumne Hi Bhari Thi !
Kher, Tum Toh Chale Gaye,
Lekin Ye Kirdaar Kahan Jayenge?
Rahenge Yahi, Saath Hamare,
Hamare Gharo Mein, Inhi Galiyon Mein,
Jaane Bhi Kaise De Inhe Saath Tumhare,
Aakhir Hamara Bhi Toh In Par Kuch Haq Hai !

Aur Phir, Maut Se Bhi Aisa Kya Darna,
Aakhir Tum Roohdaar Toh Thehre,
Phir Uth Khade Ho Jaogey,
Lekin Ab Ja Hi Chuke Ho, Toh Ye Sochta Hu
Tum Mohabbat Ho, Isiliye Jaane Diya,
Par Agar Zidd Bhi Hote, Tab Bhi Toh Chodna Hi Padhta
Yaad Hai, Tumne Hi Kaha Tha
“Main Ja Rha Hu, Wapas Aane Ke Liye”
Intzaar Rahega Tumhara !!
©Kartikeya

KARTIKEYA
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account