एक विदा तो लिखती तुम

Ek Vida Toh Likhti Tum - Sad Love Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

मन के खालिपन को भरने को
एक विदा तो लिखती तुम ।।

मेरा था जो वो लेकर चली,
एक मर्म निवेदन
की
रूकती तुम ।।

अंजुरी भर भर जो प्रेम भरी थी,
इस जीवन,
थोड़ी,
मुझको मेरी लगती तुम ।।

तुम बिन जीवन और अनन्त आकाश,
काश,
कौमुदी बन दिखती तुम ।।

मन के खालीपन को भरने को
एक विदा तो लिखती तुम ।।

संघर्ष में मेरे तुम भावाकुल,
मैं जगता,
और तिमिर में जगती तुम ।।

क्रूर कई कर्तव्यों से छलनी,
कर्तव्यों से परे,
काश कहीं खिलती तुम ।।

ढ़ाढ़ंस ही मुझको देने को
एक विदा तो लिखती तुम ।।
©सदानन्द कुमार ( समस्तीपुर, बिहार )

Ek Vida Toh Likhti Tum - Sad Love Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Man Ke Khaalipan Ko Bharne Ko
Ek Vida Toh Likhti Tum !!

Mera Tha Jo Wo Lekar Chali,
Ek Marm Nivedan
Ki
Rukti Tum !!

Anjuri Bhar Bhar Jo Prem Bhari Thi,
Is Jiwan,
Thodi,
Mujhko Meri Lagti Tum !!

Tum Bin Jiwan Aur Anant Aakash,
Kash,
Kaumudi Ban Dikhti Tum !!

Man Ke Khaalipan Ko Bharne Ko
Ek Vida Toh Likhti Tum !!

Sangharh Mein Mere Tum Bhavakul,
Main Jagta,
Aur Timir Mein Jagti Tum !!

Kurur Kai Kartavyo Se Chhalni,
Kartavyo Se Pare,
Kash Kahin Khilti Tum !!

Dhandhas Hi Mujhko Dene Ko
Ek Vida Toh Likhti Tum !!
©Sadanand Kumar (Samastipur, Bihar)

SADANAND KUMAR
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account