गुमनाम क्यों बना रखा है

गुमनाम क्यूँ बना रखा

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

नूर-ए-मोहब्बत झलकती है तेरी आँखों से,
पर उसे पलकों के पीछे क्यूँ छुपा रखा है !!
मेरे नाम के वो लफ्ज़ भी होंठो पे कहीं तो है,
पर उन्हें गुमनाम क्यूँ बना रखा है !!
~विजय सिंह दिग्गी

Gumnaam Kyon Bana Rakha Hai

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Noor-e-Mohabbat Jhalakti Hai Teri Aankhon Se,
Par Use Palko Ke Peeche Kyon Chupa Rakha Hai !!
Mere Naam Ke Wo Lafz Bhi Hontho Pe Kahin To Hai,
Par Unhe Gumnaam Kyon Bana Rakha Hai !!
~Vijay Singh Diggi

vijay singh diggi
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account