काफी है

काफ़ी हैं

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

कोई ख़ामोश हैं मेरी चौखट पर मग़र..
आना जाना काफ़ी हैं !!
कोई घूर रहा हैं नम आँखों से मगर..
बात गहरी काफ़ी हैं !!
आख़िर जी कर भी मरना तो आसां नही..
फिर भी जी रहा हूँ !!
मै झूम रहा था उसकी आहट में मग़र..
वो परेशान काफ़ी हैं !!
~सीरवी प्रकाश पंवार

Kaafi Hai

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Koi Khamosh Hai Meri Chokhat Par Magar..
Aana Jana Kaafi Hai !!
Koi Ghoor Raha Hai Nam Ankhon Se Magar..
Baat Gehri Kaafi Hai !!
Aakhir Ji Kar Bhi Marna To Aasaan Nahi..
Phir Bhi Ji Raha Hu !!
Main Jhoom Raha Tha Uski Ahat Mein Maga..
Wo Pareshan Kaafi Hai !!
~Seervi Prakash Panwar

seervi prakash panwar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account