कपटी कोरोना – संवाद

सुन कपटी कोरोना,
ज़रा बता अपने बारे में !!
जंगल में आग की तरह
तू विश्व में फैला हैं सारे में !!

सुन प्यारे केशव,
कुदरत का कहर हूं मैं !!
इंसान की नसों में फ़ैला,
बहुत जहरीला ज़हर हूं मैं !!

ये तो बता क्या तू भी देश में,
हिन्दू-मुस्लिम कर रहा हैं क्या !!
अख़बार, समाचार की तरह,
तू भी भेद कर रहा हैं क्या !!

ना हिन्दू से मेरा प्यार,
ना मुस्लिम को मैं चाहता हूं !!
तलाश हैं लापरवाह इंसान की,
मैं भी तो यार, जीना चाहता हूं !!

इंसानों के बीच दूरियां क्यों,
इतनी आजकल बढ़ा रहा हैं !!
हिन्दुस्तान के भीतर तू क्यों,
मौत की गिनती बढ़ा रहा हैं !!

तूने कब इंसान को केशव,
एक दूजे के करीब देखा था !!
सरकार को मैंने हिन्दुस्तान की,
स्वास्थ्य के क्षेत्र में गरीब देखा था !!

चल छोड़, ये बता प्यारे,
तेरे चंगुल से हम कब छूटेंगे !!
बहुत कोहराम मचा रहा तू,
तेरे ये अच्छे भाग कब फूटेंगे !!

ज्यादा दिन नहीं ठिकाना मेरा,
जल्द ही दुनिया से चला जाऊंगा !!
करोगे अगर मदद हुक़ूमत की,
वापस ना कभी मैं लौट कर आऊंगा !!

अब एक जवाब और दें,
तू गलियों में कहाँ बसता हैं !!
रोता कौन-सी गलियों में तू,
मोहल्लों में कहाँ हँसता हैं !!

होते हैं जो लोग इकट्ठा केशव,
वो देश के नहीं, मेरे चाहने वाले हैं !!
हर गली मोहल्ले में मिलते है ये,
करते मुल्क को मौत के हवाले हैं !!

चल मैं अब चलता हूं, अलविदा !
दूरी तुझसे बनाने का कायदा हैं !!
मार ना डाले तू मुझे दबोच कर,
तुझसे दूर रहने में ही फायदा हैं !!

अलविदा ही कह दूँगा तुझे केशव,
पहले मुझसे एक अटूट वादा कर !!
मत घूम नुक्कड़-चौराहों पर दोस्त,
घर पर बैठें रहने का पक्का इरादा कर !!

Sun Kapti Corona,
Zra Bta Apne Baare Mein !!
Jungle Mein Aag Ki Tarah,
Tu Vishv Mein Faila Hai Saare Mein !!

 

Sun Pyaare Keshav,
Kudrat Ka Keher Hu Main !!
Insaan Ki Naso Mein Faila,
Bahut Zehreela Zeher Hu Main !!

 

Ye Toh Bta Kya Tu Bhi Desh Mein,
Hindu-Muslim Kar Rha Hai Kya !!
Akhbaar, Samachaar Ki Tarah,
Tu Bhi Bhedh Kar Raha Hai Kya !!

 

Na Hindu Se Mera Pyaar,
Na Muslim Ko Main Chahta Hu !!
Talaash Hai Laparwah Insaan Ki,
Main Bhi Toh Yaar, Jeena Chahta Hu !!

 

Insaano Ke Beech Dooriyan Kyon,
Itni Aajkal Bdha Raha Hai !!
Hindustan Ke Bheetar Tu Kyon,
Maut Ki Ginti Badha Raha Hai !!

 

Tune Kab Insaan Ko Keshav,
Ek Dooje Ke Karib Dekha Tha !!
Sarkaar Ko Main Hindustan Ki,
Swasthye Ke Kshetr Mein Garib Dekha Tha !!

 

Chal Chhod, Ye Bta Pyaare,
Tere Changul Se Ham Kab Chootenge !!
Bahut Kohraam Macha Rha Tu,
Tere Ye Acche Bhaag Kab Footenge !!

 

Jyada Din Nahin Thikaana Mera,
Jald Hi Duniya Se Chla Jaunga !!
Karoge Agar Madad Hukumat Ki,
Wapas Na Kabhi Main Laut Kar Aaunga !!

 

Ab Ek Jawaab Aur De,
Tu Galiyon Mein Kahan Basta Hai !!
Rota Kaun-Si Galiyon Mein Tu,
Mohallo Mein Kahan Hasta Hai !!

 

Hote Hai Jo Log Ikattha Keshav,
Wo Desh Ke Nahi, Mere Chahne Wale Hai !!
Har Gali Mohalle Mein Milte Hai Ye,
Karte Mulk Ko Maut Ke Hawale Hai !!

 

Chal Main Ab Chalta Hoon, Alvida !
Doori Tujhse Banane Ka Kayeda Hai !!
Maar Na Daale Tu Mujhe Daboch Kar,
Tujhse Door Rehne Mein Hi Fayeda Hai !!

 

Alvida Hi Keh Dooga Tujhe Keshav,
Pehle Mujhse Ek Atoot Vaada Kar !!
Mat Ghoom Nukkad-Chauraho Par Dost,
Ghar Par Baithe Rehne Ka Pakka Iraada Kar !!

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account