खुद को खोकर

Khud Ko Khokar - Sad Life Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

ख़ुद को खोकर
ख़ुद को ही ढूँढती हूँ मैं
दूर से आती हुई आवाज़
सुनकर
बहुत देर तक कुछ सोचती हूँ
उस अकेलेपन को
जो शांत है
बहुत कुछ कह कर भी
बिलकुल चुप सा है
उससे कई बार
बहुत कुछ पूछती हूँ
हाँ मैं
ख़ुद को खोकर
ख़ुद को ही ढूँढती हूँ मैं
©रजत रूपा

Khud Ko Khokar - Sad Life Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Khud Ko Khokar
Khud Ko Hi Dhoondti Hu Main
Door Se Aati Hui Aawaz
Sunkar
Bahut Der Tak Kuch Sochti Hu
Us Akelepan Ko
Jo Shaanth Hai
Bahut Kuch Keh Kar Bhi
Bilkul Chup Sa Hai
Usse Kai Baar
Bahut Kuch Poochti Hu
Haan Main
Khud Ko Khokar
Khud Ko Hi Dhoondti Hu Main
©Rajat Roopa

RajatRoopa
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account