पूरा गुलाबी गुलज़ार होता है

Poora Gulaabi Gulzaar Hota Hai - Love Relationship Hindi Ghazal Shayari

www.PoemsBucket.com

कई दफ़ा यूँ भी इज़हार होता है,
बिन पर्दा उठे भी दीदार होता है !!

छा जाती है खामोशी चारों और मगर,
फिर आँखों ही आँखों में प्यार होता है !!

देखा नहीं अपना भी साया अंधेरे में कभी,
पर देखा है साथ हमेशा एक यार होता है !!

दुर्गम राहों पर रेत से बिखर जाते है रिश्ते,
प्यार से समेट लो तो वाकई सुधार होता है !!

देखा है ‘नीवो’ वो हाथ भी जिनमें गुलाब नहीं मगर,
दिलों में उनके पूरा गुलाबी गुलज़ार होता है !!
©नीवो

Poora Gulaabi Gulzaar Hota Hai - Love Relationship Hindi Ghazal Shayari

www.PoemsBucket.com

Kai Dfa Yu Bhi Izhaar Hota Hai,
Bin Parda Uthe Bhi Didaar Hota Hai !!

Chhaa Jaati Hai Khamoshi Chaaro Aur Magar,
Phir Aankhon Hi Aankhon Mein Pyaar Hota Hai !!

Dekha Nahi Apna Bhi Saya Andhere Mein Kabhi,
Par Dekha Hai Saath Hamesha Ek Yaar Hota Hai !!

Durgam Raho Par Ret Se Bikhar Jaate Hai Rishte,
Pyaar Se Samet Lo Toh Wakai Sudhaar Hota Hai !!

Dekha Hai ‘nivo’ Wo Haath Bhi Jinme Gulaab Nahi Magar,
Dilo Mein Usnke Poora Gulaabi Gulzaar Hota Hai !!
©Nivo

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

1 Comment
  1. Aman Jha 7 महीना ago

    Wah wah

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account