यही ख़िताब काफ़ी है

Yahi Khitaab Kaafi Hai - Sad Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

ये जो आख़िरी है, वो ही निशान काफ़ी है…
हमारे बदले का सिर्फ, यही हिसाब काफ़ी है !!
क्यो बुलवाते हो गैरों से कि तुम हो…
हमे मारने का, यही ख़िताब काफ़ी है !!
©सीरवी प्रकाश पंवार

Yahi Khitaab Kaafi Hai - Sad Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Ye Jo Aakhiri Hai, Wo Hi Nishaan Kaafi Hai…
Hamare Badle Ka Sirf, Yahi Hisaab Kaafi Hai !!
Kyon Bulwate Ho Geiro Se Ki Tum Ho…
Hame Maarne Ka, Yahi Khitaab Kaafi Hai !!
©Seervi Prakash Panwar

seervi prakash panwar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account