जरा धर्म के कुछ

ज़रा धर्म के कुछ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

ज़रा नफरत की ये दीवार,
हटा कर तो देखो !!
सारी दुनियाँ में तुम्हें,
ख़ुदा नजर आएगा !!

अपनी जाति का अभिमान,
भुला कर तो देखो !!
सारी कायनात से तुम्हें,
प्यार हो जाएगा !!

ज़रा धर्म के कुछ,
तुम अर्थ तो सीखो !!
इंसान बनकर कैसे जीना,
तभी समझ आएगा !!

कोई भी धर्म हमे,
नफरत नहीं सिखाता !!
“सुखबीर” तू ये बात,
कब समझ पाएगा !!
~सुखबीर सिंह

Zara Dharm Ke Kuch

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Zara Nafrat Ki Ye Diwar,
Hta Kar To Dekho !!
Saari Duniya Mein Tumhe,
Khuda Nazar Ayega !!

Apni Jaati Ka Abhimaan,
Bhula Kar To Dekho !!
Saari Kayenaat Se Tumhe,
Pyaar Ho Jayega !!

Zara Dharm Ke Kuch,
Tum Arth To Seekho !!
Insaan Bankar Kaise Jeena,
Tabhi Samjh Ayega !!

Koi Bhi Dharm Hame,
Nafrat Nahi Sikhata !!
“Sukhbir” Tu Ye Baat,
Kab Samjh Payega !!
~Sukhbir Singh

Sukhbir Singh Alagh
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account