Ho Uski Chahat Aisi Jaise Marusthal Ki – Hindi Romantic Poetry

हो उसकी चाहत ऐसी जैसे मरुस्थल की

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

चाहूं भी तो भुला न पाऊं,
ऐसी उसकी रंगत हो !!
होंठ जैसे शबनम से,
आँखों में झील की गहराई हो !!

हो मुहब्बत उससे,
दिल जिसका सोने सा खरा हो,
बोली हो मीठी उसकी,
जैसे मिश्री का मिश्रण हो !!

हो सब सी,
फिर भी सब से वो अलग हो !!
हो उसकी चाहत ऐसी ,
जैसे मरुस्थल की बारिश हो !!
~विजय सिंह दिग्गी

Chahun bhi toh bhula na paaun,
aisi uski rangath ho !!
hont jaise sabnam se,
aanko me jheel ki gehrai ho !!

Ho mohabbat usse,
dil jiska sone sa khra ho !!
Boli ho meethi uski,
jaise mishri ka mishran ho !!

Ho sab si,
phir bhi sab se wo alag ho !!
ho uski chahat aisi,
jaise marusthal ki barish ho !!
~Vijay Singh Diggi

vijay singh diggi
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account