Kyon Dar Dar Bhatakta Hai Tu – Sad Life Shayari

क्यों दर दर भटकता है तू

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

क्यों दर दर भटकता है तू,
अपनी मांगों के लिए !!
क्यों रोज अड्डे बदलता है तू,
अपनी चाहतों के लिए !!
क्यों तू उस इंसान के पास जाता है,
जो खुद अल्लाह के भिखारी है !!
अरे ये तो बस एक व्यापार है,
असल में इनका हाथ भी खाली है !!
~सुखबीर सिंह

Kyon Dar Dar Bhatakta Hai Tu

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Kyon Dar Dar Bhatakta Hai Tu,
Apni Maango Ke Liye !!
Kyon Roz Adde Badalta Hai Tu,
Apni Chahto Ke Liye !!
Kyon Tu Us Insaan Ke Paas Jata Hai,
Jo Khud Allah Ke Bikhari Hai !!
Arey Ye To Bas Ek Vyapaar Hai,
Asal Mein Inka Haath Bhi Khaali Hai !!
~Sukhbir Singh

Sukhbir Singh Alagh
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account