मैं एक कोरा कागज़

दाग है चाँद में , तुम चाँद तो नहीं ,
लेकिन ! चाँद की चांदनी सी हो तुम , !!
गयाब हो जाता जुगनू , तुम जुगनू तो नहीं ,
लेकिन ! जुगनू की रौशनी सी हो तुम !!
अल्फाज़ कम है तारीफ -ऐ -हुस्न करने को ,
बस जानतें है इतना
मैं एक कोरा कागज़ और
उस पर लिखी एक शायरी सी हो तुम !!
~नितिन वर्मा

Daag hai chand mein, tum chand to nahi,
lekin! chand ki chandni si ho tum!!
gayab ho jaata jugnoo, tum jugnoo to nahi,
lekin! jugnoo ki roshni si ho tum!!
alfaz kam hai tarif-e-husn karne ko,
bas jaante hai itna-
main ek kora kagaz aur
us par likhi ek shayari si ho tum!!
~Nitin Verma

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account