Majboor Hu Tabhi To Door Hu – Hindi Sad Shayari

मजबूर हूँ तभी तो दूर हूँ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

पास रहकर भी दूर हूँ,
सब कुछ सहकर भी चुप हूँ !!
यूं तो तुझसे मिलने की तड़प होती है हरपल,
पर कैसे तुझसे मिलूँ! मैं मजबूर हूँ !!

तड़प के याद तुझको करती हूँ,
पल पल तेरे लिए मरती हूँ !!
तू मिल जाए तो दिल में धड़कन बढे,
न मिले तो ख़ामोश अब भी हरपल हूँ !!

याद है, याद है…
तेरा वो मेरा जिंदगी में आना,
लड़ना झगड़ना और फिर बात बात पर रूठ जाना !!
मेरा प्यार से मनाना और तेरा मान जाना !!

याद है…
जब तूने मुझसे अपने दिल की बात कही थी,
मानो जैसे जन्नत मिल गयी थी !!
वो मासूम सा चेहरा, मन में उमंग,
दिल में मोहब्बत और हाथ में हजारो रंग !!
तेरी तो हर याद से आज भी घिरी हूँ,
पर क्या करूँ मैं मजबूर हूँ,
तभी तो दूर हूँ, तभी तो दूर हूँ !!
~ओग्रे एंजेल

Majboor Hu Tabhi To Door Hu

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Paas Rehkar Bhi Door Hu,
Sab Kuch Sehkar Bhi Chup Hu !!
Yu Toh Tujhse Milne Ki Tadap Hoti H Harpal,
Par Kaise Tujhse Milu Main Majboor Hu !!

Tadap Ke Yaad Tujhko Karti Hu,
Pal Pal Tere Liye Marti Hu !!
Tu Mil Jaye Toh Dil Me Dhadhkan Badhe,
Na Mile Toh Khamosh Ab Bhi Har Pal Hu !!

Yaad Hai, Yaad Hai…
Tera Woh Meri Zindagi Me Aana,
Ladna-Jhagdna Aur Fir Baat-Baat Par Rooth Jana !!
Mera Pyaar Se Manana Aur Tera Maan Jana !!

Yaad Hai…
Jab Toone Mujhse Apne Dil Ki Baat Kahi Thi,
Mano Jaise Jannat Mil Gayi Thi !!
Wo Masoom Sa Chehra, Man Mein Umang,
Dil Mein Mohabbat Aur Hath Mein Hazaro Rang !!
Teri To Har Yaad Se Aaj Bhi Ghiri Hu,
Par Kya Karu Main Majboor Hu,
Tabhi To Door Hu, Tabhi To Door Hu !!
~Ogreangel

ogreangel
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account