Mere Ghar Mein Mere Siva Koi Samjhane Wala Nahi Tha – Sad Shayari

मेरे घर में मेरे सिवा कोई समझाने वाला नहीं था

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

मेरे घर में मेरे सिवा कोई समझाने वाला नही था,
मैं गर सो जाता तो कोई जगाने वाला नही था !!

गमो के खंजर लगे थे सीने से मेरे मगर,
महफ़िल में कोई, मेरी तरह मुस्कुराने वाला नही था !!
~गुरसेवक सिंह पवार जाखल

Mere ghar mein mere siwa koi samjhane wala nahi tha,
main gar so jata toh koi jagaane wala nahi tha !!

gamo ke khanjar lage the seene se mere magar,
mehfil mein koi, meri tarah muskurane wala nahi tha !!
~Gursevak Singh Pawar Jakhal

Gursevak singh pawar jakhal
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account