Mujhe Nafrat Hoti Hai Unse Jo – Shayari

मुझे नफरत होती है उनसे,
जो नहीं जानते कि,
जिन्दगी का मतलब सिर्फ,
जीना नहीं होता !!

मुझे नफरत होती है उनसे,
जो तौलते है रिश्तों को,
दौलत के तराजू पर,
और बाँटते है उसे,
अमीरी का नाम देकर !!

मुझे नफरत होती है उनसे,
जो सोने कि महक,
पाने के लिए भुला देते है,
मिटटी की खुशबू को !!

मुझे नफरत होती है उनसे,
जो नहीं जानते,
उस सुख को जो मिलता है,
दूसरो को ख़ुशी देकर !!

मुझे नफरत होती है उनसे,
जो नहीं जानते प्यार करना,
वो प्यार जो कि,
सिर्ग दिल से होता है !!

मुझे नफरत होती है उनसे,
जो नई सभ्यता को अपनाते हुए,
भुला रहे है,
अपनी ही संस्कृति को !!

मुझे नफरत होती है,
उन सभी चीजों से,
जो अलग करती है,
एक इंसान को इंसान से,
और तोड़ती है जिंदगियों को !!
~विजय कुमार खेमका

Mujhe Nafrat Hoti Hai Unse Jo

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Mujhe NAFRAT hoti hai unse,
Jo nahi jaante ki,
Jindagi ka matlab sirf,
Jeena nahi hota.

Mujhe NAFRAT hoti hai unse,
Jo Taulte hai Risto ko,
Daulat ke taraazu par,
Aur baatte hai use,
Amiri ka naam dekar.

Mujhe NAFRAT hoti hai unse,
Jo sone ki Mehak,
Paane ke liye Bhula dete hai,
Mitti ki khusboo ko.

Mujhe NAFRAT hoti hai unse,
Jo nahi jaante,
Us sukh ko jo milta hai,
Dusro ko khusi dekar.

Mujhe NAFRAT hoti hai unse,
Jo nahi jaante Pyaar karna,
Wo pyaar jo ki,
Sirf dil se hota hai.

Mujhe NAFRAT hoti hai Unse,
Jo nayi SABHYATAA ko apnaate hue,
Bhula rahe hai,
Apni hi SANSKRITI ko.

Mujhe NAFRAT hoti hai,
Un sabhi cheezo se,
Jo alag karti hai,
Ek INSAAN ko INSAAN se,
Aur todti hai Jindgiyo ko !!
~Vijay Kumar Khemka

VIJAY KUMAR KHEMKA
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account