Parwah Nahi Karte – Sad Love Shayari

परवाह नहीं करते

Parwah Nahi Karte - Sad Love Shayari
बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

नज्में, गजले मेरी फिदा है तुम पर,
फिर भी तुम ‘वाह’ नही करते !!
चाहत की लौ को बुझाकर,
इश्क की मोम की ‘चाह’ नही करते !!
जो कल तक चांद को संवारता था,
भटक रहा है अंधेरी गलियों में !!
बेइंतिहाशा चाहने के बाद भी आज,
मृग मरीचिका जैसे ‘मुसाफिर’ की परवाह नहीं करते !!
~कविश कुमार

Nazmein, gazale meri fida hai tum par,
phir bhi tum ‘waah’ nahi karte !!
chahat ki lo ko bujhakar,
ishq ki mom ki ‘chaah’ nahi karte !!
jo kal tak chaand ko sanwaarta tha,
bhatak rha hai andheri galiyo’n mein !!
beintihasha chahne ke baad mein aaj,
mrig mrichika jaise ‘musafir’ ki parwah nahi karte !!
~Kavish Kumar

kavish kumar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account