Rakha Gulab Bhi Kala Padh Gaya – Sad Shayari

रखा गुलाब भी कला पड़ गया

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

इस जमाने में तेरी मोहब्बत का,
न कोई हकदार निकला !!
तेरी आँखों का गाढा काजल,
बस तेरा वफादार निकला !!

घङी घङी दिल को तराशा,
वक्त के साथ इसमे छाला पङ गया !!
डायरी खोली थी तुझे याद करने को,
अन्दर रखा गुलाब भी आज काला पङ गया !!
~कविश कुमार

is zamaane mein teri mohabbat ka,
na koi hakdaar nikla !!
teri aankho’n ka gada kajal,
bas tera vfadaar nikla !!

ghadi ghadi dil ko tarasha,
waqt ke saath isme chala pad gaya !!
diary kholi thi tujhe yaad karne ko,
andar rakha gulaab bhi aaj kala pad gaya !!
~Kavish Kumar

kavish kumar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account