Roobaroo E-Zindagi Kya Buniyaad Hai Teri – Life Hindi Poetry

रूबरू ए-जिंदगी क्या बुनियाद है तेरी

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

रूबरू ए-जिंदगी क्या बुनियाद है तेरी,
कंहा से तू शुरू हुई, कहाँ पर ले जाएगी !!
बचपन में तू शुरू हुई, बुढ़ापे में ले जाएगी,
साथ तेरा है झूठा, कब तू क्या कर जाएगी !!

झूठ की बुनियाद पर, तू ऐसे ही कट जाएगी,
एक दिन सचाई को, तू हमारे पास ले आएगी !!
मौत बन कर तू, हमे ऐसे ही छोड़ जाएगी,
रूबरू ए-जिंदगी क्या बुनियाद है तेरी !!

बचपन से उठा कर, पैसे में फँसा कर,
हमे गलत रस्ता दिखाएगी !!
जवानी में हमे पैसे की गुलाम बनाएगी,
और बुढ़ापे में हमें कमिया हमारी दिखाएगी !!
कि जिंदगी को ऐसे ही गवा डाला,
तू अपने मुँह से सुनाएगी !!

ए-रूबरू जिंदगी क्या बुनियाद तेरी,
गुरसेवक अपनी जुबान सुनाता !!
ऐसे किसी को न भटकाता,
भटकते को उसका रास्ता दिखाता !!
और अपनी कलम को चलाए जाता,
लोगो के कानो तक आवाज पहुंचाता !!
और कहता जाता कि –
ए-रूबरू जिंदगी क्या बुनियाद तेरी,
ए-रूबरू जिंदगी क्या बुनियाद तेरी !!
~गुरसेवक सिंह पवार जाखल

roobaroo e-zindgi kya buniyaad hai teri,
kahan se tu shuru huyi, kahan par le jayegi !!
bachpan mein tu shuru huyi, budhape mein le jayegi,
saath tera hai jhootha, kab tu kya kar jayegi !!

jhooth ki buniyaad par, tu aise hi kat jayegi,
ek din sachai ko, tu hamare paas le ayegi !!
maut ban kar tu, hame aise hi chod jayegi,
roobaroo e-zindgi kya buniyaad hai teri !!

bachpan se utha kar, paise mein fsa kar,
hame galat raasta dikhayegi !!
jawani mein hame paise ki gulaam banayegi,
aur budhaape mein hame kamiya hamari dikhayegi !!
ki zindgi ko aise hi gawa dala,
tu apne muhh se sunaayegi !!

roobaroo e-zindgi kya buniyaad hai teri,
Gursevak apni jubaan sunaata !!
aise kisi ko na bhatkata,
bhatkte ko uska raasta dikhata !!
aur apni kalam ko chalaye jata,
logo ke kaano tak awaz pahuchata !!
aur kehta jata ki-
roobaroo e-zindgi kya buniyaad hai teri,
roobaroo e-zindgi kya buniyaad hai teri !!
~Gursevak Singh Pawar Jakhal

Gursevak singh pawar jakhal
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account