Shayad Isliye Aaj – Sad Shayari

शायद इसलिए आज

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

न जाने वो क्यों खुद से
खफ़ा रहता है !!
चाहत तो दी हमने अपनी उन्हें,
पर कभी कोई कदर न थी उन्हें,
शायद इसलिए आज अकेले में वो
हमें याद करके रोता है !!

न जाने वो क्यों खुद को,
गुन्हेगार समझता है !!
गुन्हा तो हमने किया था,
माना था अपना खुदा उन्हें,
शायद इसलिए आज अकेले में वो
हमें याद करके रोता है !!
~दशमीत सिंह

Shayad Isliye Aaj

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Na Jaane Wo Kyon Khud Se,
Khafa Rehta Hai !!
Chahat Toh Di Thi Hamne Apni Unhe,
Par Kabhi Koi Kadar Na Thi Unhe,
Shayad Isliye Aaj Akele Mein Wo
Hamein Yaad Karke Rota Hai !!

Na Jaane Wo Kyon Khud Ko,
Gunhegaar Samjhta Hai !!
Gunha Toh Hamne Kiya Tha,
Mana Tha Apna Khuda Unhe,
Shayad Isliye Aaj Akele Mein Wo
Hamein Yaad Karke Rota Hai !!
~Dashmeet Singh

Dashmeet Singh
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account