Teri Jismaani Kitaab – Love Shayari

तेरी जिस्मानी किताब

Teri Jismaani Kitaab - Love Shayari
बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

तेरी बांहों की गरमी के चूल्हे में,
हर याद का अंगार दहक जाता है !!
खुद को संवारने के हर एक अंदाज में,
मेरा मन बार – बार बहक जाता है !!
जिस खाली किताब में लिखा था,
तेरे पाकीजा जिस्मानी किताब के बारे में !!
दोबारा खुले जब भी पन्ना उस किताब का ,
वो पन्ना तेरी हंसी की तरह फिर से महक जाता है !!
~कविश कुमार

Teri bahoo’n ki garmi ke choolhe mein,
har yaad kar angaar dehak jata hai !!
khud ko sanwaarne ke har ek andaaz mein,
mera man baar-baar behak jata hai !!
jis khaali kitaab mein likha tha,
tere paakiza jismaani kitaab ke baare mein !!
dobaara khule jab bhi panne us kitaab ka,
wo panna teri hansi ki tarah phir mehak jata hai !!
~Kavish Kumar

kavish kumar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account