उलझन है रिश्तों की

उलझन है रिश्तों की
किस रिश्ते को निभाऊं
मैं किस रास्ते को जाऊं
मुझे तो उलझन है इन रास्तो की !!

किस रिश्ते से रूठू
ओर किसको मनाऊं
मैं किस रास्ते को जाऊं
मुझे तो उलझन है इन रास्तों की !!

किस पे भरोसा करूं
या किससे दूरियां बनाऊं
किसको दुश्मन कहूँ मैं
या किसे सीने से लगाऊं
मुझे उलझन सी है इन दुश्मन की !!

किस गली को चालू मैं
किस रिश्ते को हंसाऊं
जो मेरे आंसू पोच दे
वो रिश्ता कहाँ से लाऊं
मुझे उलझन सी है अब अपनों की !!
~ विजय कुमार खेमका

Uljhan Hai Rishto’n ki
kis rishtey ko nibhaau
main kis raaste ko jau
mujhe to uljhan hai in raasto’n ki !!

Kis rishtey se roothu
or kisko manaau
kiske aasuoo ko pochhu
ya kisko rulaau
mujhe uljhan hai in aasuoo ki !!

kispe bharosa karu
ya kisse dooriyaa banaau
kisko dushman kahu main
ya kise Sine se lagaau
mujhe uljhan si hai in dushmano ki !!

Kis gali ko chalu main
kis rishtey ko hansaau
jo mere aansu poch de
wo rishta kaha se laau
mujhe uljhan si hai ab apno ki !!

Written By: Vijay Kumar Khemka

VIJAY KUMAR KHEMKA
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account