Usne Socha Ki Barbaad Kar Diya Par Panchi Pinjre Se

उसने सोचा कि बर्बाद कर दिया,
पर पंछी पिंजरे से आज़ाद कर दिया !!
अब तो खूब उडूंगा नील गगन में,
कल तक सिर्फ उसका ही गुलाम था।
आज हर कली का शहज़ाद कर दिया !!
~देवांश राघव

Usne socha ki barbaad kar diya,
par panchi pinjre se aazaad kar diya !!
ab to khoob udooga neel gagan mein,
kal tak sirf uska hi gulaam tha,
aaj har kali ka shehzaad kar diya !!

Written By: Devansh Raghav

devansh raghav
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account