Waqt Ki Aajmaish Se Milta Hoon – Hindi Shayari

वक़्त की आजमाइश से मिलता हूँ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

रोज गुनगुनाती हवाओं की बारिश से मिलता हूँ,
ख्वाबों की नन्ही नुमाइश से मिलता हूँ !!
अब कुछ कर गुजर, ओए मेरे यारा,
अनजाने ही सही वक़्त की आजमाइश से मिलता हूँ !!
~प्रभाव गीत

Waqt Ki Aajmaish Se Milta Hoon

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Roj Gungunati Hawao’n Ki Barish Se Milta Hoon,
Khawabo Ki Nanhi Numaish Se Milta Hoon !!
Ab Kuch Kar Gujar, Oye Mere Yara,
Anjaane Hi Sahi Waqt Ki Aajmaish Se Milta Hoon !!
~Prabhav Geet

Pulkit Prabhav
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account