वो रोज़ ख्वाब में जन्नत को देखते होंगे

वो रोज़ ख्वाब में जन्नत को देखते होंगे

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

चिराग-ए-फ़िक्र यकीनन बुझा के सोते है,
मगर नसीब की शमा जला के सोते है !!
वो रोज़ ख्वाब में जन्नत को देखते होंगे,
जो अपनी माँ के पैर दबा के सोते है !!

Wo Roz Khwab Mein Jannat Ko Dekhte Honge

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Chirag-E-Fikr Yakeenan Bujha Ke Sote Hai,
Magar Naseeb Ki Shama Jala Ke Sote Hai !!
Wo Roz Khwab Mein Jannat Ko Dekhte Honge,
Jo Apni Maa Ke Peir Daba Ke Sote Hai !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account