Zazbaato Ki Aandhiya Jab – Shayari

ज़ज्बातों की आंधियां जब

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

ज़ज्बातों की आंधियां जब
बर्दाश्त नही होती,
तो कोरे कागज़ पर
तेरा नाम लिख लेता हूँ,
सूनी रातों में ख़ामोश जुबान से
कुछ गुन-गुना लेता हूँ,
कभी चाँद को तेरा चेहरा,
तो कभी तारों को
तेरा श्रृंगार लिख लेता हूँ !!
~विजय सिंह दिग्गी

Zazbaato ki aandhiya jab
bardast nahi hoti,
to kore kagaz par
tera naam likh leta hoon,
sooni raato’n mein khamosh jubaan se
kuch gun guna leta hoon,
kabhi chand ko tera chehra,
to kabhi taaro ko
tera shringar likh leta hoon !!
~Vijay Singh Diggi

vijay singh diggi
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account