17 Veero Ka Lahu Ghula Jab Maati Mein – Aatankvaad Ke Khilaf Poetry

17 वीरो का लहू घुला जब माटी में

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

थम गई पवन घाटी में,
17 वीरो का लहू, घुला जब माटी में !!

नदियां रुकी,
रुक गयी पृथ्वी अपनी धूरी में,
शत शत नमन उन वीरो को,
शहीद हुए जो उरी में !!

जाते जाते भी अपना फ़र्ज़ निभाया,
आतंकियों को मार गिराया !!

वीरता से लड़ना, डटे रहना,
ये तो आदत, इनकी पुरानी है !!
गर्व है उन शहीदों पर,
सरहदों पर गुज़री, जिनकी जवानी है !!

मसला उन्होंने शुरू किया,
खत्म करने की हमारी बारी है !!
दिखाना है उन कुत्तो को,
कई सौ पर एक शेर भारी है !!

बहुत हुआ अब शस्त्र उठाओ,
क्रंदन, पीड़ा, शोक दिखाओ !!
बहुत हुआ, बस अब बहुत हुआ,
उन्हें भी बम्ब के दर्शन कराओ !!

बिन तेल चिंगारी भड़क उठी,
17 वीरो का लहू, मिला जब बाती में !!
पर्वत, घाटी गूँज उठी,
17 वीरो का लहू, घुला जब माटी में !!
~नितिन वर्मा

tham gayi pawan ghaati mein,
17 veero ka lahu, ghula jab maati mein !!

nadiya ruki,
ruk gayi prithvi apni dhoori mein,
shat shat naman un veero ko,
shahid huye jo uri mein !!

jaate jaate bhi apna farz nibhaya,
antankiyo ko maar giraya !!

veerta se ladhna, date rehna,
ye toh aadat, inki poorani hai !!
garv hai un shahido par,
sarhado par gujari jinki jawani hai !!

masla unhone shuru kiya,
khatam karne ki hamari baari hai !!
dikhana hai un kutto ko,
kai sau par ek sher bhaari hai !!

bahut huya ab shastr uthao,
krandan, peeda, shok dikhao !!
bahut huya, bas ab bahut huya,
unhe bhi bomb ke darshan karao !!

bin tel chingaari bhadak uthi,
17 veero ka lahu, ghula jab baati mein !!
parvat, ghaati goonj uthi,
17 veero ka lahu, ghula jab maati mein !!
~Nitin Verma

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account