देश में मेरे लॉकडॉउन हुआ हैं

Desh Mein Mere Lockdown Hua Hai - Hindi Kavita Poem By Keshav

www.PoemsBucket.com

नदियाँ पावन सी बह रही हैं,
साफ किनारों से मिल रहीं हैं !!
गंदगी का देखो विनाश हुआ हैं,
देश में मेरे लॉकडाउन हुआ हैं !!

परिंदे साफ आसमां देख रहे हैं,
हरी भरी डालियों पर चहक रहे हैं !!
प्रकृति के बच्चों का सम्मान हुआ हैं,
देश में मेरे लॉकडाउन हुआ हैं !!

गलियाँ वीरान हैं, शहर बंद पड़ा हैं,
हर हिन्दुस्तानी देश के संग खड़ा हैं !!
इंसानों को बचाने का प्रयास हुआ हैं,
देश में मेरे लॉकडाउन हुआ हैं !!

परदेसी बेटा घर को लौट आया हैं,
दौलत का लालच वो छोड़ आया हैं !!
फिर एक साथ पूरा परिवार हुआ हैं,
देश में मेरे लॉकडॉउन हुआ हैं !!

मदद करने को सब हाथ बढ़ा रहे हैं,
जाति, धर्म, पंथ का पर्दा हटा रहे हैं !!
मज़हब से बड़ा देखो इंसान हुआ हैं,
देश में मेरे लॉकडॉउन हुआ हैं !!

भाग-दौड़ वाला जीवन ठहर रहा है,
घर बैठकर दिन हमारा गुजर रहा हैं !!
हर दिन हमारे लिए रविवार हुआ हैं,
देश में मेरे लॉकडाउन हुआ हैं !!
©केशव

Desh Mein Mere Lockdown Hua Hai - Hindi Kavita Poem By Keshav

www.PoemsBucket.com

Nadiya Pawan Si Beh Rahi Hai,
Saaf Kinaaro Se Mil Rahi Hai !!
Gandgi Ka Dekho Vinaash Hua Hai,
Desh Mein Mere Lockdown Hua Hai !!

Parinde Saaf Aasman Dekh Rahe Hai,
Hari Bhari Daaliyo Par Chehek Rahe Hai !!
Prakriti Ke Baccho Ka Sammaan Hua Hai,
Desh Mein Mere Lockdown Hua Hai !!

Galiya’n Viraan Hai, Sheher Band Padha Hai,
Har Hindustani Desh Ke Sang Khda Hai !!
Insaano Ko Bachaane Ka Prayaas Hua Hai,
Desh Mein Mere Lockdown Hua Hai !!

Pardesi Beta Ghar Ko Laut Aaya Hai,
Daulat Ka Lalach Wo Chhod Aaya Hai !!
Phir Ek Saath Poora Parivaar Hua Hai,
Desh Mein Mere Lockdown Hua Hai !!

Bhaag-daud Wala Diwan Thehr Raha Hai,
Ghar Baithkar Din Hamara Guzar Raha Hai !!
Har Din Hamare Liye Ravivaar Hua Hai,
Desh Mein Mere Lockdown Hua Hai !!
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account