गरीब की जान देश में बिकती मिली हैं

Gareeb Ki Jaan Desh Me Bikti Mili Hain - Labour Died In Aurangabad Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

मौत के बाद खामोशी पसरी मिली हैं।
रोटियां पटरियों पर बिखरी मिली हैं।
दाम देकर सरकारें निर्दोष हो गई हैं,
गरीब की जान देश में बिकती मिली हैं।

मजदूर को उसके घर पहुंचाना ही पड़ेगा।
चुनाव वाले वादों को निभाना ही पड़ेगा।
देश की रीढ़ की हड्डी है हमारे ये मजदूर,
हर एक की जान को बचाना ही पड़ेगा।

घर बैठे जमीनी हकीकत तुम नहीं जानते।
दर्द भटकते गरीबों का तुम नहीं पहचानते।
करते मदद अगर तुम शहर के मजदूरों की,
क्यों वो लाचार रोटी के लिए खाक छानते।
©केशव

Gareeb Ki Jaan Desh Me Bikti Mili Hain - Labour Died In Aurangabad Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Maut Ke Bad Khamoshi Pasri Mili Hain,
Rotiyan Patriyo Par Bikhri Mili Hain,
Dam Dekar Sarkare Nirdosh Ho Gyi Hain,
Gareeb Ki Jaan Desh Me Bikti Mili Hain

Majdoor Ko Uske Ghar Pahunchna Hi Padega,
Chunav Wale Wadon Ko Nibhana Hi Padega,
Desh Ke Reed Ki Haddi Hain Hamare Majdoor,
Har Ek Hi Jaan Ko Bachana Hi Padega

Ghar Bethe Jameeni Haqeeqat Tum Nhi Jante,
Dard Bhatakte Gareebo Ka Tum Nhi Pehchante,
Karte Madad Agar Tum Shahar Ke Majdooro Ki
Kyon Wo Lachar Roti Ke Liye Khak Chhante
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account