बचपन, जवानी और बुढ़ापा

Bachpan Jawaani Budhapa Life cycle hindi kavita shayari

www.PoemsBucket.com

बचपन:

ना कुछ पाने का लालच,
ना कुछ खोने का डर था !!
सुकून वाले रात दिन वाला,
हमारे बचपन का सफ़र था !!

ना झूठ का बोलबाला था,
ना ही फ़रेब का ज़माना था !!
सबसे मिलते थे हँसकर हम,
रूठने का ना कोई बहाना था !!

नहीं कभी किसी से हारते थे,
ना कभी किसी से जीतते थे !!
मिट्टी के बर्तन साथी थे मेरे,
इंसानों से ना हम खेलते थे !!

दामन में हमारे सुख हजार थे,
झोली में मुस्कुराते इतवार थे !!
बिना पैसे होठों पर हँसी रहती थी,
हम बचपन में ज्यादा होशियार थे !!

जवानी:

बचपन से निकलकर आए,
अब ये जवानी शुरू हुई हैं !!
नादान ज़िन्दगी अब हमारी,
हकीकत से रू-ब-रू हुई हैं !!

जवानी के तो अलग इरादे हैं,
ज्यादा है चाहत, कम वादे हैं !!
भ्रम टूटा तो हम जान पाए हैं,
कुछ रिश्ते पूरे, कुछ आधे हैं !!

इश्क़ का अब खुमार चढ़ेगा,
हँसने रोने का बुखार बढ़ेगा !!
प्यार पूरा हुआ तो बेहतर है,
वरना रोज एक जाम बढ़ेगा !!

जोश में यारों, ना कोई भूल करें,
खूबसूरत सपनों को ना धूल करें !!
गुलिस्ता सी हसीन है ये जवानी,
इसे ना रेगिस्तान का बबूल करे !!

बुढ़ापा:

जवानी पूरी होगी और बुढ़ापा आ जाएगा,
जोश, ताकत, तंदुरुस्ती को खा जाएगा !!
मजबूत से अब मजबूर हो जाएंगे हम सब,
अब जवानी का दौर नहीं लौटकर आएगा !!

बची हुई उम्र, तजुर्बे बांटने में निकलेंगी,
ज़िन्दगी,लोगो को राह दिखाने में कटेंगी !!
सब अपने होकर भी नजदीक ना रहेंगे,
हर सुबह, हर शाम बस तन्हाई सहेंगी !!

भागदौड़ वाली जिंदगी से आराम होगा,
सुकून से जीयेंगे,करने को ना काम होगा !!
रिश्ते, नाते, दोस्त सब छूट जाएंगे हमारे,
साथ में बस जवानी में कमाया नाम होगा !!

कद अब कम होगा, सब झुक कर चलेंगे,
घुटने कमजोर होंगे, रुक-रुक कर चलेंगे !!
बे-सहारा हो जाएंगी बची हुई ज़िन्दगी,
लकड़ी से सहारे टिक-टिक कर चलेंगे !!
©केशव

Bachpan Jawaani Budhapa Life cycle hindi kavita shayari

www.PoemsBucket.com

Bachpan:

Na Kuch Paane Ka Lalach,
Na Kuch Khone Ka Dar Tha !!
Sukoon Wale Raat Din Wala,
Hamare Bachpan Ka Safar Tha !!

Na Jhooth Ka Bolbala Tha,
Na Hi Fareb Ka Zamana Tha !!
Sabse Milte The Hanskar Ham,
Roothne Ka Na Koi Bahana Tha !!

Nahi Kabhi Kisi Se Harte The,
Na Kabhi Kisi Se Jeette The !!
Mitti Ke Bartan Saath The Mere,
Insaano Se Na Ham Khelte The !!

Daaman Mein Hamare Sukh Hajaar The,
Jholi Mein Muskuraate Itvaar The !!
Bina Paise Hontho Par Hansi Rehti Thi,
Ham Bachpan Mein Jyada Hoshiyaar The !!

Jawaani:

Bachpan Se Nikalkar Aaye,
Ab Ye Jawani Shuru Hui Hai !!
Naadaan Zindgi Ab Hamari,
Hakikat Se Ru-ba-ru Hui Hai !!

Jawani Ke Toh Alag Iraade Hai,
Jayada Hai Chahat, Kam Vaade Hai !!
Bhram Toota Toh Ham Jaan Paaye Hai,
Kuch Rishte Poore, Kuch Aadhe Hai !!

Ishq Ka Ab Khumaar Chadega,
Hanse Rone Ka Bukhaar Badega !!
Pyaar Poora Hua Toh Behtar Hai,
Warna Roz Ek Jaam Badega !!

Josh Mein Yaaro, Na Koi Bhool Kare,
Khoobsurat Sapno Ka Na Dhool Kare !!
Gulista Si Haseen Hai Ye Jawani,
Ise Na Registaan Ka Babul Kare !!

Budhapa:

Jawani Poori Hogi Aur Budhapa Aa Jayega,
Josh, Takat, Tandurusti Ko Kha Jayega !!
Majboot Se Ab Majboor Ho Jayenge Ham Sab,
Ab Jawani Ka Daur Nahi Lautkar Ayega !!

Bachi Huyi Umr, Tajurbe Baante Mein Niklegi,
Zindgi, Logo Ko Raah Dikhaane Mein Kategi !!
Sab Apne Hokar Bhi Nazdik Na Rahege,
Har Subah, Har Shaam Bas Tanhai Sahegi !!

Bhagdaud Wali Zindgi Se Aaraam Hoga,
Sukoon Se Jiyenge, Karne Ka Na Kaam Hoga !!
Rishte, Naate, Dost Sab Chhoot Jayenge Hamare,
Saath Mein Bas Jwani Mein Kamaya Naam Hoga !!

Kad Ab Kam Hoga, Sab Jhuk Kar Chalenge,
Ghutne Kamjor Honge, Ruk-ruk Kar Chalenge !!
Be-sahara Ho Jayengi Bachi Hui Zindgi,
Lakdi Se Sahare Tik-tik Kar Chalenge !!
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account