हुनर रखता हूँ

हुनर रखता हूँ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

अपने जिगर में दम रखता हूँ,
लहज़ा नरम रखता हूँ !!
तूफ़ानों का भी रुख मोड़ दूँ,
मैं वो अपने अंदर हुनर रखता हूँ !!
©अमन शायर

Hunar Rakhta Hu

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Apne Jigar Mein Dam Rakhta Hu,
Lehza Naram Rakhta Hu !!
Toofano Ka Bhi Rukh Mod Du,
Main Wo Apne Ander Hunar Rakhta Hu !!
©Aman Shayar

Mr. Aman_Shaayar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account