रिश्तों को टूटते देखा हैं

रिश्तों को टूटते देखा हैं

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

दुनिया के हर शख्स़ को मैंने,
पैसे की आग में सिकते देखा हैं !!
तुम बाज़ार में निकलकर देखो,
मैंने इंसान को बिकते देखा हैं !!

मुस्कुराते हुए मिलते हैं जो सामने,
अंदर से उनको भी जलते देखा हैं !!
प्यार भरी  सिर्फ बातें करते हैं वो,
नफ़रत को भीतर पलते देखा हैं !!

भरोसा किसी का भी मत करना ,
साथ लोगों का मैंने छूटते देखा है !!
झूठ बोलना अब कोई गुनाह नहीं,
सच्चाई से रिश्तों को टूटते देखा हैं !!

रिश्तें ज्यादा याद नहीं रहते लोगों को,
अपनों को भूल जाने का दौर देखा हैं !!
मदद करती तो हैं ये दुनिया लेकिन,
एहसान जताने का यहाँ शोर देखा हैं !!
©केशव

Rishton Ko Tootte Dekha Hai

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Duniya Ke Har Shakhs Ko Maine,
Paise Ki Aag Mein Sikte Dekha Hai !!
Tum Bazaar Mein Nikalkar Dekho,
Maine Insaan Ko Bikte Dekha Hai !!

Muskurate Huye Milte Hai Jo Saamne,
Ander Se Unko Bhi Jalte Dekha Hai !!
Pyaar Bhari Sirf Baatein Karte Hai Wo,
Nafrat Ko Bheetar Palte Dekha Hai !!

Bharosa Kisi Ka Bhi Mat Karna,
Saath Logo Ka Maine Chootte Dekha Hai !!
Jhooth Bolna Ab Koi Gunah Nahin,
Sacchai Se Rishton Ko Tootte Dekha Hai !!

Rishte Jyada Yaad Nahin Rehte Logo Ko,
Apno Ko Bhool Jaane Ka Daur Dekha Hai !!
Madad Karti Toh Hai Ye Duniya Lekin,
Ehsaan Jatane Ka Yahan Shor Dekha Hai !!
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account