निखर आएगी मेरी भी शायरी आहिस्ता आहिस्ता

निखर आएगी मेरी भी शायरी आहिस्ता आहिस्ता

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

मोहब्बत का रंग चढ़ता है आहिस्ता आहिस्ता,
निगाह से होठों का सफर होता आहिस्ता आहिस्ता !!

चेहरे से सरकता है हर नकाब आहिस्ता आहिस्ता,
उभरती है शफ़क़ से रोशनी आहिस्ता आहिस्ता !!

सफ़र में रुकावटें हैं, तकलीफ़ हैं और परेशानियां हैं,
गुज़र जाता है उनसे हर शख्स़ आहिस्ता आहिस्ता !!

मंज़िल पाने का इरादा हो तो पल भर की नाकामी अच्छी,
कि पड़ जाती है फीकी हर कमियाबी आहिस्ता आहिस्ता !!

मैंने ओढ़ रखा है तेरी हर यादों को अपने बदन पर,
कि तस्वीर पड़ जाती है धुंधली आहिस्ता आहिस्ता !!

बढ़ रहा है उनका हुस्न-ओ-शबाब आहिस्ता आहिस्ता,
निखर आएगी मेरी भी शायरी आहिस्ता आहिस्ता !!
©अमन झा

Nikhar Jayegi Meri Bhi Shayari Ahista Ahista

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Mohabbat Ka Rang Chadta Hai Ahista Ahista,
Nigaah Se Honthon Ka Safar Hota Ahista Ahista !!

Chehre Se Sarkata Hai Har Nakaab Ahista Ahista,
Ubharti Hai Shafaq Se Roshni Ahista Ahista !!

Safar Mein Rukawatey Hai, Takleef Hai Aur Pareshaaniya Hai,
Guzar Jaata Hai Unse Har Shakhs Ahista Ahista !!

Manzil Paane Ka Iraada Ho Toh Pal Bhar Ki Nakami Achi,
Ki Padh Jaati Hai Phiki Har Kamyabi Ahista Ahista !!

Maine Od Rakha Hai Teri Yado Ko Apne Badan Par,
Ki Tasveer Padh Jaati Hai Dhundhli Ahista Ahista !!

Badh Rha Hai Unka Husn-o-shabaab Ahista Ahista,
Nikhar Jayegi Meri Bhi Shayari Ahista Ahista !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account