नदी बोली मुझसे

Nadi Boli Mujhse - Hindi Kavita Shayari By Aman Jha

www.PoemsBucket.com

कई वर्षों बाद आज वापिस लौटा,
वहीं जाके बैठ गया,
नदी किनारे, पेड़ के नीचे,
नदी बोली मुझसे…

तुम लोग मन को इतना मैला क्यों रखते हो?
आओ फिर से मुझमें डुबकी लगा लो,
धोलो अपने वस्त्र का मेल,
गड़ाओ अपने पैर के तलवे को मेरी कोख में,
मैं तुम्हें फिसलने नहीं दूँगी,
जरा पास तो आओ, देखूँ तुम्हें लगते कैसे हो,
जैसे मेरी धारा को तुम अलग-अलग पहचान नहीं सकते,
मुझे भी तो तुम सारे एक समान ही लगते हो,
एक ही फर्क है हमारे में,
मेरे बच्चों को तुम रसायन युक्त विष से मार रहे हो,
और मैं आज भी तुम्हारी संतानों को जीवन बक्षती रही हूँ…

इतनी भी अकेली नहीं हूँ,
जितना  तुम  समझते हो,
लाखों की भीड़ में  रहकर भी,
तुम खुद को अकेला पाते हो,
मुझ में आके कितनी नदियाँ मिलती,
कंकड़, पत्थर मिल साथ में बहते,
और रहे स्मरण पुत्र भी तो तुम मेरे हो
अज़ल अज़ल के रिश्ते निभाते हों…

घने जंगलों और दुर्गम पंथों से बहकर,
सींच कर इस धरा को करती हूँ उर्वर,
सिसकती हूँ, मचलती हूँ,
कई मौकों पर गरजती हूँ,
उलझती हूँ फिर भी हर रोज मंजिल की तरफ बढ़ती हूँ,
तुम देखो थोड़ी सी कठिनाई में,
कितना विचलित हो उठते हो ,
अपनों के लिए मन में विद्वेष रख,
जीवन भर मैं-मैं करते रहते हो,
इसीलिए तुम लोगों के मन,
शायद मेल रह जाते हैं…

कई सभ्यताओं, पर्वतों और जंगलों को,
संभला निशार्थ भाव से वर्षों मैंने,
मैं मिटती-बनती रही लहरों के खेल में,
नि:शब्द ही समेट लेती हूँ सब कुछ अन्दर में,
जब तुम लोगो को देखती हूँ,
अपने फायदा और नुकसान के
हिसाब से रिश्ते बनाते और बिगाड़ते हो,
कितनी छोटी छोटी मायादों  में,
मिलते और बिछड़ते हो,
मोहब्बत में वासना, यारी में लालच,
तुम लोगो पर हावी रहता हैं,
शायद इसलिए तुम लोगो का
मन इतना मैला रहता हैं !!
©अमन झा

Nadi Boli Mujhse - Hindi Kavita Shayari By Aman Jha

www.PoemsBucket.com

Kai Varsho Baad Aaj Wapis Lauta,
Wahin Jaake Baith Gya,
Nadi Kinaare, Paid Ke Neeche,
Nadi Boli Mujhse…

Tum Log Man Ko Itna Maila Kyon Rakhte Ho?
Aao Phir Se Mujhme Dubki Lga Lo,
Dholo Apne Vastr Ka Mail,
Gadaao Apne Peir Ke Talve Ko Meri Kokh Mein,
Main Tumhe Fisalne Nahin Doogi,
Zra Paas Toh Aao, Dekhu Tumhe Lagte Kaise Ho,
Jaise Meri Dhaara Ko Tum Alag-alag Pehchaan Nahin Sakte,
Mujhe Bhi Toh Tum Saare Ek Samaan Hi Lagte Ho,
Ek Hi Fark Hai Hamare Mein,
Mere Baccho Ko Tum Rasayan Yukt Vish Se Maar Rahe Ho,
Aur Main Aaj Bhi Tumhari Santaano Ko Jiwan Bakshti Rahi Hu…

Itni Bhi Akeli Nahi Hu,
Jitna Tum Samjhte Ho,
Laakho Ki Bheed Mein Rehkar Bhi,
Tum Khud Ko Akela Paate Ho,
Mujh Me Aake Kitni Nadiya Milti,
Kankad, Pather Mil Saath Mein Behte,
Aur Rahe Smaran Putr Bhi Toh Tum Mere Ho,
Azal Azal Ke Rishte Nibhaate Ho…

Ghane Junglo Aur Durgam Pantho Se Behkar,
Seench Kar Is Dhraa Ko Karti Hu Urwar,
Sisakti Hu, Machalti Hu,
Kai Moko Par Garajti Hu,
Uljhti Hu Phir Bhi Har Roz Manzil Ki Taraf Badhti Hu,
Tum Dekho Thodi Si Kathnai Mein,
Kitna Vichlit Ho Uthte Ho,
Apno Ke Liye Mann Mein Vidhweysh Rakh,
Jeevan Bhar Main-main Karte Rehte Ho,
Isiliye Tum Logo Ke Man,
Shayad Mel Reh Jaate Hai…

Kai Sabhyatao, Parwato Aur Junglo Ko,
Sambhla Nishaarth Bhaav Se Varsho Maine,
Main Mitti-banti Rahi Lehro Ke Khel Mein,
Nihshabd Hi Samet Leti Hu Sab Kuch Ander Mein,
Jab Tum Logo Ko Dekhti Hu,
Apne Fayeda Aur Nuksan Ke
Hisaab Se Rishte Banate Aur Bigaadte Ho,
Kitni Choti Choti Maayodo Mein,
Milte Aur Bichdte Ho,
Mohabbat Mein Vaasna, Yaari Mein Lalach,
Tum Logo Par Haawi Rehta Hai,
Shayad Isliye Tum Logo Ka
Man Itna Maila Rehta Hai !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

4 Comments
  1. NiVo (Nitin Verma) 2 महीना ago

    Bahut khoob ….

  2. Lokesh Gautam(Keshav) 2 महीना ago

    शानदार रचना

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account