फिर गरीब खून के आँसू रो रहा

Phir Garib Khoon Ke Aansoo Ro Raha - Lockdown Migrants Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

आज मेरे देश पर,
एक जानलेवा संकट आन पड़ा है !!
टूटा है कहर ऐसा,
कि सब वीरान पड़ा है !!

अमीर तो है महफूज़ यहाँ,
अपनों के संग समय बिता रहे !!
गरीब भूखे पेट कहाँ जाए,
जो सड़कों पर मजबूर चिल्ला रहे !!

एक वक़्त की रोटी के लिए,
ये गरीब हर रोज़ तड़पता है !!
मुस्कुरा कर फिर भी देश को,
खुद से पहले रखता है !!

हम पढ़े लिखो ने आज,
इन्हें ही बेघर कर दिया है !!
चंद पैसों के लिए इनकी जिंदगी को,
दांव पर रख दिया है !!

हम कोस रहे इन्हें कि,
ये ही अब गुनाहगार है !!
पर क्यों हम भूल बैठे है,
इनकी इस हालत के हम ही ज़िम्मेदार है !!

इंसान कितना गिर गया है,
ये आज मुझे महसूस हो रहा !!
सुन रहा है ना तू ए-खुदा,
आज फिर गरीब खून के आँसू रो रहा !!
©शिवनित्या

Phir Garib Khoon Ke Aansoo Ro Raha - Lockdown Migrants Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Aaj Mere Desh Par,
Ek Jaanleva Sankat Aan Pdha Hai !!
Toota Hai Keher Aisa,
Ek Sab Viraan Padha Hai !!

Ameer Toh Hai Mehfooz Yahan,
Apno Ke Sang Samey Bita Rahe !!
Garib Bhookhe Pet Kahan Jaye,
Jo Sadko Par Majboor Chilla Rahe !!

Ek Waqt Ki Roti Ke Liye,
Ye Garib Har Roz Tadpta Hai !!
Muskura Kar Phir Bhi Desh Ko,
Khud Se Pehle Rakhta Hai !!

Ham Padhe Likho Ne Aaj,
Inhe Hi Beghar Kar Diya Hai !!
Chnd Paiso Ke Liye Inki Zindgi Ko,
Daav Par Rakh Hai !!

Ham Kos Rahe Inhe Ki,
Ye Hi Ab Gunahgaar Hai !!
Par Kyon Bhool Baithe Hai,
Inki Is Haalat Ke Ham Hi Zimmedaar Hai !!

Insaan Kitna Gir Gaya Hai,
Ye Aaj Mujhe Mehsoos Ho Raha !!
Sun Raha Hai Na Tu E-khuda,
Aaj Phir Garib Khoon Ke Aansoo Ro Raha !!
©Shivnitya

Shivnitya (Khwabon.ka.samndar)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account