तुम्हारी कारी कजरारी नज़रे

तुम्हारी कारी कजरारी नज़रे

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

ये जो तुम्हारी नजरें हैं,
देख इन्हें दिल मेरा बेताब होता हैं,
इतनी गहराई है इन नज़रों में तुम्हारी,
तह में उतर जाऊँ ऐसा दिल करता है !!

कभी शीतल सी, तो कभी आग हैं,
चेहरा तेरा शब्द तो, नज़र तेरी किताब हैं,
इन पलकों के नीचे, ठहर जाऊँ दिल करे,
नजरें तुम्हारी कभी धूप, तो कभी छाँव हैं !!

जब छलक पड़ते है, अश्क इन नज़रों से ,
तेरे अंतर्मन की करुणा दिखा जाती हैं,
कभी शून्यता की मूर्त, ये नज़रे तुम्हारी,
निर्भय, निडर व्यक्तित्व की पहचान कराती हैं !!

ये तुम्हारी कारी कजरारी नज़रे,
पर्वत सी दृढ़ता का प्रतीक बन जाती हैं,
कभी श्वेत सी दिखती ये नज़रे,
तेरे पावन  मन को दिखला जाती है !!
©अमन झा

Tumhari Kaari Kajrari Najare

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Ye Jo Tumhari Nazare Hai,
Dekh Inhe Dil Mera Betaab Hota Hai,
Itni Gehrai Hai In Nazaro Mein Tumhari,
Teh Mein Utar Jau Aisa Dil Karta Hai !!

Kabhi Sheetal Si, Toh Kabhi Aag Hai,
Chehra Tera Shabd Toh Nazar Teri Kitaab Hai !!
In Palko Ke Neeche, Thehr Jau Dil Kare,
Nazare Tumhari Kabhi Dhoop Toh Kabhi Chaav Hai !!

Jab Chalak Padhte Hai, Ashq In Nazaro Se,
Tere Antrman Ki Karuna Dikha Jaati Hai,
Kabhi Shunyeta Ki Moorat, Ye Nazare Tumhari,
Nirbhey, Nidar Vyaktitv Ki Pehchaan Karati Hai !!

Ye Tumhari Kaari Kajrari Najare,
Parvat Si Drid Ka Prateek Ban Jaati Hai !!
Kabhi Shwet Si Dikhti Ye Nazare,
Tere Pawan Man Ko Dikhla Jaati Hai !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account