तूफानी लहर सा हैं ये इश्क

तूफानी लहर सा हैं ये इश्क

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

मत ढूँढ केशव यहाँ राह प्यार की,
बिना मंजिल का सफ़र हैं ये इश्क़ !!

खुद को खो बैठेगा इसकी तलाश में,
कोहरे से सना हुआ शहर हैं ये इश्क़ !!

साँसों की रफ्तार थाम देता ये जाम,
कमबख़्त मीठा सा ज़हर हैं ये इश्क़ !!

आँखों और ज़ुल्फ़ों से जान ले लेता ये,
खूबसरत सा दिख रहा कहर हैं ये इश्क़ !!

शांत से दरिए के लिबास में छुपा हुआ,
समंदर की तूफानी लहर सा हैं ये इश्क !!
©केशव

Toofaani Lehar Sa Hai Ye Ishq

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Mat Dhoond Keshav Yahan Raah Pyar Ki,
Bina Manzil Ka Safar Hai Ye Ishq !!

Khud Ko Kho Baithega Iski Talaash Mein,
Kohre Se Sana Hua Sheher Hai Ye Ishq !!

Sanson Ki Raftaar Thaam Deta Ye Jaam,
Kambakkht Meetha Sa Zeher Hai Ye Ishq !!

Ankhon Aur Zulfon Se Jaan Le Leta Ye,
Khoobsurat Sa Dikh Rha Keher Hai Ye Ishq !!

Shaant Se Dariye Ke Libaas Mein Chupa Hua,
Samander Ki Toofaani Lehar Sa Hai Ye Ishq !!
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account