मूर्खता के लिबास में

मूर्खता के लिबास में

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

ज़मीं पर पड़ी तड़प रही थी इंसानियत,
हाथ में लाठी लिए हैवान जश्न मना रहे थे !!
खुद को लपेट कर मूर्खता के लिबास में,
ज्ञान और आचरण को कफ़न पहना रहे थे !!
©नीवो

Moorkhta Ke Libaas Mein

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Zamee’n Par Padhi Tadap Rahi Thi Insaniyat,
Haath Mein Lathi Liye Hewaan Jashn Mana Rahe The !!
Khud Ko Lapet Kar Moorkhta Ke Libaas Mein,
Gyaan Aur Aacharan Ko Kafan Pehna Rahe The !!
©Nivo

NiVo (Nitin Verma)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account