अपने चेहरे पर मुखौटा

अपने चेहरे पर मुखौटा

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

उसने भी अपने चेहरे पर मुखौटा लगाया था,
जितना मेरे लिए ज़रुरी था उतना ही दिखाया था !!

मैं तो इश्क़ में नादान था,
तेरी बेवफाईयों से अनजान था !!

मैं इश्क़ में इतना चूर था,
तेरी हक़ीक़त से कोसों-कोसों दूर था !!

तेरे सारे झूठे इल्ज़ाम चुप-चाप सहता रहा,
मैं इश्क़ में पल-पल ज़हर के घूँट पीता रहा !!
©अमन शायर

Apne Chehre Par Mukhota

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Usne Bhi Apne Chehre Par Mukhota Lagaya Tha,
Jitna Mere Liye Jaroori Tha Utna Hi Dikhaya Tha !!

Main Toh Ishq Mein Naadaan Tha,
Teri Bewafaiyon Se Anjaan Tha !!

Main Ishq Mein Itna Choor Tha,
Teri Hakikat Se Koso-koso Door Tha !!

Tere Saare Jhoothe Ilzaam Chup-chap Sehta Raha,
Main Ishq Mein Pal-pal Zeher Ke Ghoonth Peeta Raha !!
©Aman Shayar

Mr. Aman_Shaayar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account