साड़ी में तू

साड़ी में तू

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

भारतीय सभ्यता व संस्कृति की पहचान हैं,
संस्कार, मर्यादा और परंपरा की तेरी ये शान हैं !!

घूँघट के पल्लू में गजब ढाती तेरी मुस्कान हैं,
साड़ी में देख, खूब दमकता तेरा मुखड़ा हैं !!

सूंघ तुम्हारा गंध माधुरी , प्रकृति भी बहक सा जाए,
देख तुम्हारा रूप कामिनी, दर्पण सारे टूट जाते हैं !!

अधरों का रस अमृत जैसा, नैन तुम्हारे गाते गीत हैं,
साड़ी में लिपटा बदन देख, कामदेव भी मांगे भीख हैं !!

गदर मचाती है ये जब, इसे धारण कर तू निकलती हैं,
प्रेमियों की धड़कन बढ़ा, सांसों को गले में अटकाती हैं !!

बहुत रंगों से मिलकर बनी तेरी ये रंगीन साड़ी हैं,
बेरंग सी मेरी जिंदगी में, देखो भर्ती ये रंग सारी हैं !!

प्रात: खुशियों से भर जाती, शाम अभिसार में जाती हैं,
सागर की लहरों सी ऊर्जा, देख तुम्हें साड़ी में मिल जाती हैं !!
©अमन झा

Saadi Mein Tu

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Bhartiye Sabhyeta Va Sanskriti Ki Pechaan Hai,
Sanskar, Maryada Aur Parampra Ki Teri Ye Shaan Hai !!

Ghooghat Ke Pallu Mein Gajab Dhaati Teri Muskaan Hai,
Saadi Mein Dekh, Khoob Damakta Tera Mukhdta Hai !!

Soongh Tumhara Gandh Maadhuri, Prakriti Bhi Behek Si Jaaye,
Dekh Tumhara Roop Kamini, Darpan Saare Toot Jaate Hai !!

Adhro Ka Ras Amrit Jaisa, Nain Tumhare Gaate Geet Hai,
Saadi Mein Lipta Badan Dekh, Kaamdev Bhi Maange Bheekh Hai !!

Gadar Machaati Hai Ye Jab, Isey Dharan Kar Tu Niklti Hai,
Premiyo Ki Dhadkan Bdha, Saanso Ko Gale Mein Atkaati Hai !!

Bahut Rango Se Milkar Bani Teri Ye Rangeen Saadi Hai,
Berang Si Meri Zindgi Mein, Dekho Bharti Ye Rang Saari Hai !!

Prateh Khushiyo Se Bhar Jaati, Shaam Abhisaar Mein Jaati Hai,
Sagar Ki Lehro’n Si Urja, Dekh Tumhe Saadi Mein Mil Jaati Hai !!
©Aman Jha

Aman Jha
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account