यादों के वो दिन

यादो के वो दिन

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

मेरी आँखों के सामने शब्दों से भरी किताब,
हर एक शब्द पर उसकी यादो से भरी किताब !!

सालों गुजर जाते थे एक पन्ना पलटने में,
राते गुज़र जाती उन पन्नो का मँझर समझने में !!

आख़िर खो गयी वो क़िताब शरुआती पन्नो में,
टूट गयी मेरी वो कहानी यादो की बहारों में !!

खेल बता दिया मेरी रग-रग की कहानी को,
तोड़ रहे वो लफ्ज मेरी कण-कण की कहानी को !!

मैने नफ़रत भरना चाही खुद में उसके लिए,
मगर बेवफ़ा हो गया मै खुद ही खुद के लिए !!

पहले हर जवाब का हिसाब होता था उनसे,
मग़र अब मै हर शब्द का जवाब लेता हूँ उनसे !!

गुमनाम कर दी मैने अपनी ही एक कहानी को,
हर रोज नया नाम देता हूँ अपनी इस ज़ुबानी को !!
~सीरवी प्रकाश पंवार

Yaado Ke Wo Din

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Meri Aankho Ke Saamne Shabdo Se Bhari Kitaab,
Har Ek Shabd Par Uski Yaado Se Bhari Kitaab !!

Saalo Gujar Jaate The Ek Panna Palatne Mein,
Raate Gujar Jaati Un Panno Ka Manzar Samjhne Mein !!

Aakhir Kho Gayi Wo Kitaab Shuruati Panno Mein,
Toot Gayi Wo Kahani Yaado Ki Bahaaro Mein !!

Khel Bata Diya Meri Rag-rag Ki Kahani Ko,
To Rahe Wo Lafz Meri Kan-kan Ki Kahani Ko !!

Maine Nafrat Bharna Chahi Khud Mein Uske Liye,
Magar Bewafa Ho Gaya Main Khud Hi Khud Ke Liye !!

Pehle Har Jawab Ka Hisab Hota Tha Unse,
Magar Ab Main Har Shabd Ka Jawab Leta Hu Unse !!

Gumnam Kar Di Maine Apni Hi Ek Kahani Ko,
Har Roz Naya Naam Deta Hu Apni Is Jubaani Ko !!
~Seervi Prakash Panwar

seervi prakash panwar
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account