ज़रा सोचिए – क्या हवा बना पाओगे

Zra Sochiye Kya Dhoop Bana Paogey - Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

घड़ियाँ तो खरीद लोगे,
वक़्त कहाँ से लाओगे?

रोशनी तो बना ली हैं,
क्या धूप बना पाओगे?

किताबों की मंडी लगी हैं,
अक्ल कहाँ से लाओगे?

पंखे,कूलर तो बना लिए,
क्या हवा बना पाओगे?

रिश्ते तो बन जाते है यहाँ,
मोहब्बत कहाँ से लाओगे?

धन दौलत तो कमा लोगे,
क्या हँसी खरीद पाओगे?

मखमली गद्दे तो बिकते हैं,
पर नींद कहाँ से लाओगे?

ऊँची इमारतें तो बना लोगे,
क्या आसमां बना पाओगे?
©केशव

Zra Sochiye Kya Dhoop Bana Paogey - Hindi Shayari

www.PoemsBucket.com

Ghadiya Toh Kharid Logey,
Waqt Kahan Se Laogey ?

Roshni Toh Bana Li Hai,
Kya Dhoop Bana Paogey ?

Kitaabo Ki Mandi Lagi Hai,
Akal Kahan Se Laogey ?

Pankhe, Cooler Toh Liye,
Kya Hawa Bana Paogey ?

Rishte Toh Ban Jaate Hai Yahan,
Mohabbat Kahan Se Laogey ?

Dhan Daulat Toh Kama Logey,
Kya Hansi Kharid Paogey ?

Makhmali Gadde Toh Bikte Hai,
Par Neend Kahan Se Laogey ?

Oonchi Imaarte Toh Bana Logey,
Kya Aasmaa Bana Paogey ?
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account