शिक्षा आजकल दौलत के हवाले हैं

Shiksha Aajakl Daulat Ke Hawale Hai - Garib Ko Shiksha Education Right Hindi Kavita

www.PoemsBucket.com

हालातों के मारे ये कल के उजाले हैं।
शिक्षा आजकल दौलत के हवाले हैं।

कैसे पड़ेगा बच्चा, अगर गरीब होगा,
अमीरों को ही तो पढ़ना नसीब होगा,
दिल इस कारोबार में कितने काले हैं।
शिक्षा आजकल दौलत के हवाले हैं।

भरे पेट वाले आराम में बस पढ़ते हैं।
ये मासूम पहले रोटी के लिए लड़ते हैं।
कई बच्चो को, नसीब नहीं निवाले हैं।
शिक्षा आजकल दौलत के हवाले हैं।

बचपन में भी अमीरी गरीबी दिखती हैं।
हर बच्चे को यहाँ शिक्षा कहाँ मिलती हैं।
लाचारो के हाथ में दिखते सिर्फ़ छाले हैं।
शिक्षा आजकल दौलत के हवाले हैं।

हर बच्चे को पढ़ने का अधिकार मिले।
हक के लिए लड़ने का हथियार मिले।
फिर क्यों नोटों से यहाँ खुलते ताले हैं।
शिक्षा आजकल दौलत के हवाले हैं।
©केशव

Shiksha Aajakl Daulat Ke Hawale Hai - Garib Ko Shiksha Education Right Hindi Kavita

www.PoemsBucket.com

Haalaato Ke Maare Ye Kal Ke Ujaale Hai!
Shiksha Aajakl Daulat Ke Hawale Hai!

Kaise Padega Baccha, Agar Garib Hoga,
Ameero Ko Hi Toh Padhna Naseeb Hoga,
Dil Is Karobaar Mein Kitne Kaale Hai!
Shiksha Aajakl Daulat Ke Hawale Hai!

Bhare Pet Wale Aaraam Mein Bas Padhte Hai!
Ye Masoom Pehle Roti Ke Liye Ladhte Hai!
Kai Baccho Ko, Naseeb Nahi Niwale Hai,
Shiksha Aajakl Daulat Ke Hawale Hai!

Bachpan Mein Bhi Ameeri Garibi Dikhti Hai!
Har Bacche Ko Yahan Sikhsha Kahan Milti Hai!
Laachaaro Ke Haath Mein Dikhte Sirf Chhale Hai!
Shiksha Aajakl Daulat Ke Hawale Hai!

Har Bacche Ko Padhne Ka Adhikaar Mile!
Haq Ke Liye Ladhne Ka Hathiyaar Mile!
Phir Kyon Noto Se Yahan Khulte Taale Hai!
Shiksha Aajakl Daulat Ke Hawale Hai!
©Keshav

Lokesh Gautam(Keshav)
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account